Thursday, February 23, 2006

साहित्य

Ye kavita mene ek naatak "Ek Aur Draunachary" dekhkar likhi thi.Us naatak me aaj ke yug ke ek vyakti ki tulna MAHABHARAT ke Draunachary se ki gai thi.Usme un dono(aaj ka vyakti aurMAHABHARAT ke Draunachary) antarman ka dwand bahut hi sundar terike se dikhya gaya tha.Isko dekhkar aisa laga ki "RAMAYAN AUR MAHABHARAT" aise mahakavya kisi bhi yug ke saath jode jaa sakte hein.Yahi unki mahantaa he.

साहित्य
हर शब्द हो तीर सा,हर भाव हो कटार सा,
हर एक वाक्य पर लगे कि सच कहा और बस सच कहा,
लगे जब कि हर “मैं” से जुडा है व़जूद मेरा,
लगे जब कि हर “तुम” में है कोई अपने पहचान का,
लगे जब कि कितना करीब मेरे है “इसकी” कहानी,
लगे जब कि “वही” है मेरी सच,मेरी ही कहानी,
हर शक्स की पहचान का “जिसमें” हो दर्शन,
जीवन की उल्झन का “जिसमें” हो चित्रण,
मनुष्य के भावों का “जिसमें” हो वर्णन,
दिलो दिमाग पर “वो” एक असर छोड़ जाए,
कुछ करे “वो” अपने युग का प्रतिनिधित्व,
कुछ कहे “वो” आने वाले युग की कहानी,
कुछ छाप छोड़ जाए “वो” बीते युग की,
“उसी” को कहुँ मैं सच्चा साहित्य ,
“वही” है सचमुच सच्चा साहित्य ,

सचिन जैन

1 comment:

Manish said...

bahut khoob kavita hai aapki! ek achche sahitya ke jin binduon ko aapne apni kavita mein chua hai wo bilkul sahi lage
likhte rahein !

bata doon ki main yahan orkut ke jariye pahuncha:)